Mojo – in poetic prime

Some poetic compositions..by MoJo

१४११ (चौदह सौ ग्यारह) बचे हैं, तुझे मिला के, मुझे मिला के |

Posted by Mohan on February 20, 2010


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

save tiger

१४११ (चौदह सौ ग्यारह) बचे हैं,
तुझे मिला के, मुझे मिला के |

तुम शावक व्याघ्र हो, मैं वयस्क हूँ
कुछ बूढ़े हैं, कुछ हम जैसे हैं
गिनती के अब कुछ ही बचे हैं,
तुझे मिला के, मुझे मिला के ||

पर कुल का, पर, निज जाति का है तू
सहज वृत्ति कि, तेरा भक्षण कर दूँ
भविष्यत निश्चित प्रतिद्वंद्विता घटा दूँ
जो अब तक हुआ है, वो अब भी कर दूँ
फिर चौदह सौ दस ही बचेंगे
तुझे मिटा के, मुझे मिला के ||

न शोचता, जो मैं बनराज ही होता
मनु वंशियों को निज सत्ता न खोता
या फिर उनका ये अत्याचार न होता
जो व्याघ्र समुदाय लुप्तप्राय न होता
ये हमें लुप्त करके ही दम लेंगे
तुझे मिटा के, मुझे मिटा के ||

संभवतः तू नहीं सोचेगा
तरुण बन तू मुझसे लड़ेगा
मुझ बूढ़े पर प्रहार करेगा
मेरा समय जब अवसान पर होगा
पर शायद तब हम कम न रहेंगे
तुझे मिला के, मुझे मिटा के

वृत्ति विरुद्ध अब कृत्य करूँगा
भक्षण न कर, तेरा संरक्षण करूँगा
तुझ अनाथ का अब पालक बनूँगा
सूत्रपात कर, इस यज्ञ का सूत्रधार बनूँगा
हे कर्णधार, हम जीतेंगे
तुझे जिता के, मुझे जिता के

१४११ (चौदह सौ ग्यारह) बचे हैं,
तुझे मिला के, मुझे मिला के

Advertisements

3 Responses to “१४११ (चौदह सौ ग्यारह) बचे हैं, तुझे मिला के, मुझे मिला के |”

  1. Jyotsna said

    Kya baat hai !!!

  2. Anupam Singh said

    awesomely written….

    http://upmaan.wordpress.com/2010/02/22/save-the-tigers-or-let-them-die/

  3. saurav said

    we should not kill our nation animal
    that is tiger
    we should band hunting of tiger
    and give strict punishment to those
    who kill tiger!!!!!!!!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: